मुंगेर फायरिंग केस में तत्कालीन एसपी लिपि सिंह पर ऐक्शन की मांग

[ad_1]

नई दिल्ली
बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly elections) में पूर्ण बहुमत से जीत के साथ ही नीतीश सरकार (Nitish Kumar) की सत्ता में वापसी हो गई है। हालांकि इस बार की सरकार पिछली नीतीश सरकारों से थोड़ी अलग है। इस बार बीजेपी बड़े अंतर से गठबंधन में नंबर वन पार्टी है। सोमवार को हुए शपथ ग्रहण में बीजेपी के दो उपमुख्यमंत्री भी बने हैं। सत्ता समीकरण में हुए इस नए परिवर्तन से बीजेपी नेताओं को उम्मीद जगी है कि बिहार में अब उनकी भी चलेगी। इसी को देखते हुए मुंगेर गोलीकांड (Muger Firing news) की फाइल फिर से खुलवाने की मांग उठी है।

दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने पिछले महीने बिहार के मुंगेर में दुर्गा मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए गोलीकांड की दोबारा जांच की मांग की है। उन्होंने बिहार के नए उपमुख्यमंत्रियों तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी से मुंगेर की तत्कालीन एसपी और जेडीयू के राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह की बेटी लिपि सिंह (Lipi Singh) के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

‘लिपि सिंह की जगह खाकी नहीं, जेल में है’
तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, ‘मैं तारकिशोर प्रसाद जी और रेणु देवी जी से अनुरोध करता हूं कि मुंगेर हत्याकांड की जांच करवाएं और दोषी पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दें। मासूमों की हत्या का आदेश देने वाली SP की जगह खाकी नहीं जेल होनी चाहिए।’ तजिंदर की इस मांग का और भी यूजर्स ने समर्थन किया और लिपि सिंह पर कड़े ऐक्शन की मांग की है।

दुर्गा मूर्ति विसर्जन के दौरान हुआ था बवाल

बता दें कि 26 अक्टूबर की रात करीब 11:45 बजे श्रद्धालुओं का एक काफिला मूर्ति विसर्जन के लिए जा रहा था। उसी वक्त भीड़ में से कुछ लोगों और पुलिस के बीच विवाद शुरू हो गया। इसके बाद कुछ लोगों ने पुलिस और सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी। पथराव के दौरान मुंगेर पुलिस ने सबसे पहले हवाई फायरिंग की। फायरिंग के बाद भीड़ और ज्यादा आक्रोशित हो गई और पथराव भी तेज हो गया। पूरे बवाल के दौरान एक शख्स की मौत हो गई जबकि कई लोग घायल हुए।

मुंगेर गोलीकांड पर सड़क से सोशल मीडिया तक हुआ बवाल

घटना के बाद मुंगेर से लेकर बिहार के कई हिस्सों में इस घटना को लेकर विरोध प्रदर्शन हुए। मुंगेर की तत्कालीन एसपी लिपि सिंह पर पूरे मामले में लापरवाही बरतने और गोली चलाने का आदेश देने के आरोप लगे। हालांकि लिपि सिंह ने पुलिस के फायरिंग करने से साफ इनकार किया। सोशल मीडिया पर उन्हें जनरल डायर तक कहा गया। तीन दिन चले बवाल के बाद चुनाव आयोग ने लिपि सिंह और मुंगेर के डीएम का तबादला कर दिया था।

लिपि सिंह ने कहा था कि पुलिस ने फायरिंग नहीं की
एसपी लिपि सिंह ने 27 अक्टूबर को मीडिया के कैमरे पर कहा था कि भीड़ में शामिल असामाजिक तत्वों ने फायरिंग की थी। लिपि सिंह के मुताबिक, विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रतिमा को तेजी से विसर्जन करने का पुलिस की ओर से बार-बार अनुरोध किया जा रहा था। इसी बीच कुछ असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर हमला करते हुए गोलीबारी शुरू कर दी। असामाजिक तत्वों की गोली से एक युवक की मौत हुई, वहीं कई लोग घायल हो गए। इस घटना में सात थानाध्यक्ष समेत 20 पुलिसकर्मी भी घायल हुए।

[ad_2]

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
2,887FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles