March 8, 2021

Lokayat Darpan

Power of Journalism

किसान आंदोलन : हेमा मालिनी ने किसानों से पूछा, नए कृषि कानूनों में खराबी क्या है?

किसान आंदोलन : हेमा मालिनी ने किसानों से पूछा, नए कृषि कानूनों में खराबी क्या है?
भाजपा सांसद हेमामालिनी ने कहा है कि किसान समस्या को बेकार में बढ़ा रहे हैं। किसान सरकार का साथ दें। विपक्ष के बहकावे में न आएं। कृषि कानून सही हैं। कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के बाद मथुरा आईं सांसद हेमामालिनी ने बुधवार को वृंदावन स्थित अपने आवास पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि किसानों को बताना चाहिये कि कृषि कानूनों में क्या खराबी है। उन्हें बताना चाहिये कि उन्हें इसमें क्या चाहिये। समझे बगैर किसान इसका विरोध कर रहे हैं, कृषि कानून सही हैं।

उन्होंने कहा कि वार्ता के दौरान किसान कमी नहीं बता पाते और सिर्फ यह कहते हैं कि इन तीनों कानूनों को वापस करो। भाई वापस क्यों करें, यह तो बताओ। सांसद ने कहा कि विपक्ष द्वारा इन किसानों को भड़काया जारहा है। इसीलिए ये किसान नहीं समझ रहे हैं। अगर वह इसे समझेंगे तो ये कृषि कानून बहुत अच्छे रहेंगे।

हेमामालिनी ने कहा कि कांग्रेस अपनी सरकार के दौरान खुद इन कानूनों को लागू करना चाहती थी लेकिन अब भाजपा, प्रधानमंत्री मोदी किसानों के हित में ये कृषि कानून लाये हैं तो यह कानून अच्छे क्यों नहीं हैं? उन्होंने कहा कि विपक्ष सिर्फ विरोध कर रहा है। अच्छी बातों का भी वह विरोध कर रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक के बाद एक इतना कुछ किया है कि लोग हैरान हैं कि इतना हो कैसे रहा है। काश्मीर में धारा 370 हटायी जो अब तक कोई नहीं कर सका। प्रधानमंत्री मोदी के लिए सिर्फ देश है।

टीटीजेड का कम हो दायरा
सांसद ने कहा कि टीटीजेड के दायरे में मथुरा का बड़ा हिस्सा आने के कारण यहां पर बड़े उद्योग नहीं लग पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह प्रयास करेंगीं कि टीटीजेड का दायरा कम किया जाए, जिससे यहां बड़े उद्योग लग सकें और लोगों को रोजगार मिले। उन्होंने बताया कि मथुरा में बड़े उद्योग लगाने के लिए उन्होंने कई उद्योगपतियों से बात की है और उन्होंने सकारात्मक जवाब दिया है। हेमामालिनी ने कहा कि उनके मित्र और फिल्म जगत के जाने-माने चेहरे संजय खान आगरा के समीप डिजनीलेंड की तरह एक प्रोजेक्ट लगाने के प्रयास में थे लेकिन बाद में कुछ परेशानी आने पर उन्होंने विचार त्याग दिया।

ब्रज के कलाकारों को मिलेगा प्रशिक्षण
अभिनेत्री और सांसद हेमामालिनी ने कहा कि ब्रज की कला क्षेत्र के लिए गीता शोध संस्थान बनाया जा रहा है। यहां पर ब्रज के कलाकार नृत्य और संगीता कला का प्रशिक्षण ले सकेंगे। क्योंकि मैं कलाकार भी हूं इसलिए मेरे लिए इससे ज्यादा खुशी की बात कोई नहीं हो सकती। हेमा ने कहा कि ब्रज की कला अद्भुत है, दुनिया में इसको मान मिले, मैं इसके प्रयास कर रही हूं।

मैं न रहूं फिर भी यहां रहे मेरी छाप
हेमामालिनी ने कहा कि वह चाहती हैं कि वह जब ना रहें तब भी उनकी यहां छाप रहे। उन्होंने कहा कि कृष्णा थीम पार्क बनाना भी उनकी प्राथमिकता में है, हालांकि अभी यह योजना सिरे नहीं चढ़ पाई है। वह चाहती हैं कि ब्रज की पहचान केवल मंदिरों के रूप में न हो बल्कि यहां पर्यटन की स्थिति भी बेहतर हो।

फिल्मसिटी में हों अच्छी फिल्मों के सीन रिक्रिएट
अभिनेत्री और सांसद हेमामालिनी ने नोएडा में फिल्मसिटी निर्माण पर कहा कि यह अच्छी पहल है। यहां पर आकर्षण के लिए प्रसिद्ध फिल्मों के सीन भी रिक्रिएट किए जाएं तो बहुत अच्छा होगा। जैसे शोले और मुगले आजम के सैट बनाये जाएं। सीन रिक्रिएट हों। जहां लोग जाकर इन्हें देख सकें।

मथुरा को एनसीआर में शामिल करने का प्रयास
सांसद ने कहा कि वह पहले भी मथुरा को एनसीआर में शामिल करने का मुद्दा संसद में उठा चुकी हैं। उन्हें आश्वासन भी मिला है। अब संसद का सत्र शुरू होने पर वह इस मुद्दे को सरकार के समक्ष फिर से रखेंगीं। जल्द ही मथुरा एनसीआर में शामिल हो सकता है।

शहर सुंदर बनाने में लोगों की सहभागिता जरूरी
मथुरा को सुंदर और स्वच्छ बनाने के लिए हेमामालिनी ने लोगों की सहभागिता को जरूरी बताया। उन्होंने कहा कि सड़कों पर अतिक्रमण से यातायात की समस्या तो पैदा होती ही है, शहर की सुंदरता पर भी बिगड़ती है। सांसद हेमामालिनी ने स्वच्छता को लेकर नगर आयुक्त रविंद्र कुमार मांदड़ के प्रयासों की सराहना की।

अभी और करना चाहती हूं दमदार फिल्म
एक सवाल के जवाब में अभिनेत्री हेमामालिनी ने कहा कि वह अभी और दमदार फिल्म करना चाहती हैं। बहुत सी यादगार फिल्में उन्होंने की हैं और अब भी उनमें दमदार फिल्म करने की क्षमता है। जैसे ही कोई अच्छा ऑफर मिलेगा, वह अपनी कला का फिर से परिचय देंगी।