Array

राष्ट्रीय महासचिव और उपाध्यक्ष ने क्यों डाल रखा है

आखिर क्या बदल जाएगा यूपी भाजपा का नेतृत्व ?

राष्ट्रीय महासचिव और उपाध्यक्ष ने क्यों डाल रखा है डेरा ?

उत्तर प्रदेश में सियासी घमासान मचा हुआ है। भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह इन दिनों लखनऊ दौरे पर रहे।जिसको लेकर इस समय यूपी में भाजपा नेतृत्व और सरकार में परिवर्तन को लेकर अटकलें जोरों पर हैं। राजनीतिक गलियारों पर इस समय इसी की चर्चा चल रही है। अंदेशा लगाया जा रहा है कि, आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश सरकार और संगठन दोनों ही जगह भाजपा बड़ा परिवर्तन करने जा रही है।
हालांकि इन अंदेशों को भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राधा मोहन सिंह ने महज कपोल कल्पना और किसी व्यक्तिगत दिमाग की उपज करार दिया है। लेकिन इस दौरान उन्होंने नेतृत्व परिवर्तन से जुड़े सवालों पर कुछ नहीं कहा, उन्हें टाल गए। जिसके बाद से यूपी भाजपा के नेतृत्व को लेकर आशंकाएं और बढ़ गई हैं। बता दें कि उत्तर प्रदेश में लगातार इस बात के कयास लगाए जा रहे है कि, स्वतंत्र देव सिंह की जगह केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है।कहा यह भी जा रहा है कि, केशव प्रसाद मौर्य की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नजदीकी और सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी और मौजूदा विधान परिषद सदस्य ए.के शर्मा को उप-मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। यही कारण है कि, भाजपा संगठन की ओर से उत्तर प्रदेश को लेकर लगातार बैठकों का दौर जारी है। इसके लिए खुद पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव बीएल संतोष लखनऊ के दौरे पर थे।
भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष के साथ लखनऊ के तीन दिवसीय दौरे पर आए राधा मोहन सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भेंट के बाद उप मुख्यमंत्रियों केशव प्रसाद मौर्य तथा दिनेश शर्मा से मुलाकात की। इस बैठक के बाद केशव मौर्य ने कहा कि, बैठक बहुत अच्छी रही। यह बैठक संगठन के मुद्दे को लेकर हुई। 2022 के विधानसभा चुनाव में हम ऐतिहासिक जीत दर्ज करने जा रहे हैं।उस चुनाव में हम एक बार फिर 300 से ज्यादा सीटें प्राप्त करेंगे। भाजपा उपाध्यक्ष ने कानून मंत्री बृजेश पाठक से भी मुलाकात की। पाठक ने बताया कि इस मुलाकात के दौरान संगठन से जुड़े मुद्दों तथा 2022 के प्रदेश विधानसभा चुनाव के बारे में विचार-विमर्श हुआ। हालांकि उन्होंने विस्तार से कुछ भी बताने से मना कर दिया। पाठक ने अप्रैल माह में स्वास्थ्य विभाग को एक पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने कोविड-19 महामारी को संभालने में विभाग की कथित नाकामी का जिक्र किया था।

Related Articles

Stay Connected

22,042FansLike
2,812FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles