फिलिस्तीनी इमाम ने मुस्लिम शासकों पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- समलैंगिकता की वजह से फैला कोरोना संक्रमण

दुनिया

[ad_1]

यरूशलम के अल-अक्सा मस्जिद में इमाम शेख इस्साम अमीरा ने कहा कि मुस्लिम शासक समलैंगिकता की अनुमति देते हैं। इसके साथ ही नारीवादी संगठनों का पालन करते हैं, जिसकी वजह से कोरोना अपने ‘भारतीय संस्करण’ और नए वेरिएंट ‘ओमीक्रोन’ के रूप में पूरा दुनिया में फैल रहा है।

कोरोना के नए वेरिएंट ‘ओमीक्रोन’ ने हाहाकार मचाया हुआ है। इसी बीच फिलिस्तीन के एक इस्लामिक इमाम शेख इस्साम अमीरा ने ओमीक्रोन को लेकर विवादित बयान दे दिया। यरूशलम के अल-अक्सा मस्जिद में इमाम शेख इस्साम अमीरा ने कहा कि समलैंगिकता के कारण कोरोना संक्रमण फैला है। 

इसे भी पढ़ें: अमेरिका में तेजी से बढ़ रहा ओमीक्रोन का खतरा, सबसे ज्यादा बच्चे हो रहे संक्रमित

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि मुस्लिम शासक समलैंगिकता की अनुमति देते हैं। इसके साथ ही नारीवादी संगठनों का पालन करते हैं, जिसकी वजह से कोरोना अपने ‘भारतीय संस्करण’ और नए वेरिएंट ‘ओमीक्रोन’ के रूप में पूरा दुनिया में फैल रहा है। दरअसल, कोरोना का डेल्टा वेरिएंट भारत में सबसे पहले डिटेक्ट किया गया था, जिसकी वजह से इमाम ने उसे कोरोना का भारतीय संस्करण बताया। सोशल मीडिया पर इमाम का वीडियो भी वायरल हो रहा है। जिसमें देखा जा सकता है कि इमाम लोगों के बीच में खड़े होकर अपनी बात रख रहा है।

इमाम ने मीडिया को बताया काफिर 

इतना ही नहीं इमाम ने अपने संबोधन में मीडिया को काफिर भी बताया। उन्होंने कहा कि जिन शासकों की वजह से ऐसी समस्या उत्पन्न हुई है, उसके खिलाफ सभी को एकत्रित होना चाहिए। इसके साथ ही इमाम ने यह भी कहा कि सरकार और मीडिया अगर वायरस के बारे में जानकारी नहीं देते तो यह नहीं फैलता।

इसे भी पढ़ें: ओमिक्रॉन से ऑस्ट्रेलिया में पहली मौत, कोविड-19 के 6,324 नए मामले समाने आए

आपको बता दें कि इजराइल में ओमीक्रोन के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है और पिछले 8 दिनों में तो मामले 24 फीसदी बढ़े हैं। माना जा रहा है कि ओमीक्रोन वेरिएंट डेल्टा की तुलना में तीन गुना ज्यादा संक्रामक है। हालांकि, वैक्सीनेशन ओमीक्रोन के संक्रमण से आंशिक सुरक्षा प्रदान करते हुए प्रतीत हो रहे हैं।



[ad_2]

Share News