मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार निरन्तर खेल व खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए प्रतिबद्ध है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणा से देश मंे खेलों के प्रति जागरूकता बढ़ी है। आज खेल स्वस्थ रहने के साथ ही, अपने गांव, जनपद, प्रदेश तथा देश के सामर्थ्य को व्यक्त करने का माध्यम बने हैं। उत्तर प्रदेश ने इस दिशा में अच्छी प्रगति की है।
मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर 36वें राष्ट्रीय खेलों में उत्तर प्रदेश का प्रतिनिधित्व करने जा रहे प्रतिभावान खिलाड़ियों से संवाद के लिए आयोजित कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने विगत साढ़े पांच वर्षों में खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए अनेक कार्य किये हैं। कल जनपद गोरखपुर में उन्होंने एक ग्रामीण स्टेडियम का लोकार्पण किया है। ग्रामीण क्षेत्रों में अच्छे स्टेडियम का होना एक कल्पना थी, लेकिन प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से इसे हम वास्तविकता में बदल रहे हैं। प्रदेश सरकार सभी गांवों में खेल के मैदान, ओपेन जिम, युवक मंगल दल तथा महिला मंगल दल के गठन के साथ ही उन्हें स्पोर्ट्स किट उपलब्ध कराने की कार्यवाही को युद्ध स्तर पर आगे बढ़ा रही है। राज्य में मिनी स्टेडियम तथा स्टेडियम के निर्माण की कार्यवाही को नई गति प्रदान की गई है। प्रदेश सरकार इस दिशा में पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि एक खिलाड़ी जब जनपद स्तर पर खेलता है, तो वह अपने गांव, शहर अथवा नगर के लिए खेलता है। जब वह प्रदेश स्तर पर खेलता है, तो अपने जनपद के लिए खेलता है। जब वह देश में खेलता है, तो अपने प्रदेश के लिए खेलता है। जब कोई खिलाड़ी दुनिया की किसी भी अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में प्रतिभाग करता है, तो वह अपने देश के लिए खेलता है। यह भाव सभी खिलाड़ियों के मन में होना चाहिए। यह टीम वर्क अनेक प्रकार की प्रेरणा प्रदान करता है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार निरन्तर खेल व खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए प्रतिबद्ध है। टोक्यो ओलम्पिक में प्रतिभाग करने वाले उत्तर प्रदेश के सभी खिलाड़ियों तथा मेडल प्राप्त करने वाले देश के खिलाड़ियों को इकाना स्टेडियम में भव्य समारोह में राज्य सरकार ने सम्मानित किया है। मेरठ में आयोजित भव्य समारोह में पैरालम्पिक खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया था। राज्य सरकार ने खिलाड़ियों की डाइट की दर को बढ़ाने का कार्य किया है। यदि इसमें किसी संशोधन की जरूरत है, उसके लिए खेल विभाग को यथाशीघ्र निर्णय लेने की आवश्यकता है। स्पोर्ट्स हॉस्टल तथा स्पोर्ट्स कॉलेज के लिए भी कार्य किये जाने की आवश्यता है। प्रशिक्षकों को और अच्छे ढंग से प्रोत्साहित किया जाए तथा प्रदेश से अच्छे प्रशिक्षकों को जोड़ा जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि शासकीय सेवाओं में एक निश्चित रिजर्वेशन के साथ ही, खिलाड़ियों की भर्ती की प्रक्रिया को राज्य सरकार द्वारा आगे बढ़ाया गया है। शीघ्र ही ओलम्पिक, एशियाड, कॉमन वेल्थ गेम्स, राष्ट्रीय या अन्तर्राष्ट्रीय खेलों में प्रदेश के पदक विजेता खिलाड़ियों को शासकीय सेवाओं में विभिन्न पदों पर नियुक्त होने का अवसर प्राप्त होगा। अब तक नेशनल गेम्स में प्रतिभाग करने वाले खिलाड़ियों को रेलवे की थ्री टियर से यातायात की सुविधा प्राप्त थी। मुख्यमंत्री जी ने इसे ए0सी0 थ्री टियर करने की घोषणा की है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में खेलकूद के एक बड़े कार्यक्रम को आगे बढ़ा रही है। इसके लिए प्रदेश में ग्राम पंचायत स्तर से लेकर प्रदेश स्तर तक विधायक खेलकूद प्रतियोगिता शुरू करने जा रहे हैं। इसके लिए गांव, न्याय पंचायत, विकासखण्ड तत्पश्चात विधानसभा स्तर पर खेल प्रतियोगिताएं करायी जाएंगी। विधानसभा स्तर पर मेडल प्राप्त करने वाले खिलाड़ियों की जनपद स्तर पर प्रतियोगिता करायी जाएगी। जनपद स्तर पर मेडल प्राप्त करने वाले खिलाड़ियों को मण्डल स्तर पर प्रतियोगिता के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। प्रदेश के 18 मण्डल के सभी खिलाड़ियों को लखनऊ में एक भव्य आयोजन के साथ जोड़कर एक प्रतियोगिता करायी जाएगी। यहां उनके सम्मान के साथ प्रोत्साहन का कार्यक्रम भी होगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बहुत से खिलाड़ियों को स्थानीय स्तर पर दी गई रुचि और निजी क्षेत्र द्वारा किये गये प्रयास के कारण उनकी प्रतिभा को आगे बढ़ाने में मदद मिली है। गाजीपुर और वाराणसी में विशेषकर ऐसा हुआ है। निजी खेल एकेडमी को शासन स्तर से सहयोग प्रदान करने तथा उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए एक पॉलिसी का निर्माण किया जाना चाहिए। इसके माध्यम से बहुत से अच्छे खिलाड़ी हमारे पास आ जाएंगे। सभी स्तरों पर एक अच्छी टीम बनाने मंे मदद मिलेगी। इस दिशा में खेल विभाग को प्रयास करना चाहिए।
मुख्यमंत्री जी ने 36वें राष्ट्रीय खेलों में प्रतिभाग करने गुजरात जा रहे प्रदेश के खिलाड़ियों को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए विश्वास व्यक्त किया कि वे सभी बेहतर करके उत्तर प्रदेश के सामर्थ्य और सम्मान को बढ़ाने का कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के खिलाड़ियों की अब तक की सबसे बड़ी टीम गुजरात के लिए रवाना हो रही है। इनमें कुल 462 खिलाड़ी और कोच शामिल हैं। यह उत्तर प्रदेश के नये सामर्थ्य को व्यक्त करने वाला अभिनव प्रयास है।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी खिलाड़ियों का परिचय प्राप्त किया। उन्होंने 05 खिलाड़ियों श्री ललित कुमार उपाध्याय, श्री रोहन विश्नोई, सुश्री प्रीती दुबे, श्री राजकुमार पाल तथा श्री सूरज कुमार को किट प्रदान की।
इस अवसर पर खेल निदेशक श्री आर0पी0 सिंह ने कहा कि पिछले राष्ट्रीय खेलों में खिलाड़ियों को 03 लाख, 02 लाख तथा 01 लाख रुपये की पुरस्कार राशि प्राप्त होती थी। इसे मुख्यमंत्री जी ने दोगुना करते हुए 06 लाख, 04 लाख तथा 02 लाख रुपये कर दिया है। इसके लिए उन्होंने खिलाड़ियों की ओर से मुख्यमंत्री जी का आभार व्यक्त किया। उनके द्वारा अवगत कराया गया है कि 2015 के राष्ट्रीय खेलों में उत्तर प्रदेश के खिलाड़ियों ने 20 खेलों में अपनी प्रतिभागिता सुनिश्चित की थी और 68 मेडल जीते थे। गुजरात में आयोजित होने जा रहे 36वें राष्ट्रीय खेल में उत्तर प्रदेश के खिलाड़ी 28 खेलों में प्रतिभाग करेंगे।
इस अवसर पर खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री गिरीश चन्द्र यादव, अपर मुख्य सचिव खेल श्री नवनीत सहगल सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी तथा खिलाड़ी उपस्थित थे।

Share News